अनेकार्थी शब्द किसे कहते हैं | अनेकार्थी शब्द की परिभाषा || हिंदी व्याकरण |

अनेकार्थी शब्द किसे कहते हैं 

परिभाषा:- अनेकार्थी शब्द वह शब्द है जिसके एक से अधिक अर्थ होते है। अनेकार्थी शब्द  कहते है 

अनेकार्थी शब्दों की सूची

अंक  —  चिह्न , लेख , संख्यासूचक चिह्न , अदद , भाग्य , काजल की बिंदी , धब्बा , गोद , शरीर।
 
 अंग  —  शरीर , अवयव , अंश , भेद , पक्ष , सहायक , प्रिय , पार्श्व , वेद के छह अंग। 
 
 अंतर  —  फर्क , बीच , फासला , अवकाश , मध्यवर्ती काल , ओट , छिद्र।
 
अंबर  —  आकाश , वस्त्र , कपास , एक इत्र , अबरक , अमृत , बादल।
 
अंश  —  भाग , भाज्य अंक , कला।
 
अक्षर  —  अविनाशी , अकारादि वर्ण , आत्मा , आकाश , धर्म , तपस्या , मोक्ष , जल।
 
 अग्नि  —  आग , पाचनशक्ति , पित्त , तीन की संख्या , सोना।
 
 अनंत  —  असीम , अविनाशी , विष्णु , लक्ष्मण , आकाश , बलराम।
 
 अन्न  —  अनाज , भात , सूर्य , पृथ्वी , प्राण , जल।
 
 अमर  —  चिरजीवी , देवता , पारा , अमरकोश , काम , घटना , समस्या।
 
अमृत  —  सुधा , जल , घी , यज्ञ की बची हुई सामग्री , अन्न , मुक्ति , दूध , औषध , पारा , धन , सुस्वादु वस्तु।
 
 अर्थ  —  शब्द का अभिप्राय , मतलब , काम , हेतु , इंद्रियों के विषय , धन।
 
आकार  —  स्वरूप , कद , संघटन , चिह्न , चेष्टा , ‘आ’ वर्ण , बुलावा।
 
आग्नेय  —  अग्नि – संबंधी , अग्नि से उत्पन्न , सुवर्ण , रक्त , कृत्तिका नक्षत्र , अग्निपुत्र कार्तिकेय , प्रतिपदा तिथि , ब्राह्मण , अग्निकोण।
 
आत्मा  —  रूह , मन , सूर्य , अग्नि , वायु , स्वभाव , धर्म।
 
इंद्र  —  ऐश्वर्यवान् , श्रेष्ठ , सूर्य , मालिक , ज्येष्ठा नक्षत्र , चौदह की संख्या , जीव।
 
 ईश  —  स्वामी , राजा , ईश्वर , महादेव , ग्यारह की संख्या , आर्द्रा नक्षत्र , पारा।
 
 अरुण  —  सूर्य , सूर्य का सारथी , गहरा लाल रंग , गुड़ , कुमकुम , सिंदूर , माघ महीने का सूर्य।
 
 उत्तर  —  दक्षिण दिशा के सामने की दिशा , जवाब , प्रतिकार , पिछला , श्रेष्ठ , गौण।
 
 उपज  —  उत्पत्ति , पैदावार , नयी उक्ति , मनगढ़ंत बात।
 
 एक  —  इकाइयों में सबसे छोटी और पहली संख्या , बेजोड़ , कोई , समान।
 
कंचन  —  सोना , संपत्ति , धतूरा , रक्तकांचन , सोने-सा रंग , नीरोग।
 
 कंठ  —  घेघा , गर्दन , स्वरनलिका , स्वर , किसी बरतन का मुख , सामीप्य , हँसली , किनारा।
 
 कनक  —  सुवर्ण , धतूरा , पलाश , नागकेसर , खजूर , केले की एक जाति , गेहूँ।
 
 कपाल  —  खोपड़ी , ललाट , भाग्य , खपड़ा , खप्पर , ढक्कन , अंडे का छिलका।
 
 कपि  —  बंदर , हाथी , कंजा , सूर्य , विष्णु।
 
 कमल  —  पानी में होनेवाला पौधा , क्लोमा , जल , ताँबा , सारस , आँख का कोया , फूल , पीलू , मूत्राशय , ब्रह्मा , एक दानव का नाम।
 
कमला  —  लक्ष्मी , धन , संतरा , रूपवती स्त्री , झाँझाँ , ढोला।
 
 कर  —  हाथ , हाथी की सूँड , सूर्य या चंद्रमा की किरण , ओला , राजस्व , छल।
 
 कलश  —  घड़ा , मंदिरों या मकानों के शिखर पर का कैंगूरा , चोटी।
 
 कवि  —  कविता रचनेवाला , कलाविद् , तत्वचिंतक , ऋषि , ब्रह्मा , शुक्राचार्य , अग्नि , सूर्य , वरुण , (सांख्य दर्शन में) आत्मा , लगाम।
 
 कान  —  सुनने की इंद्रिय , कन्ना , चारपाई का टेढ़ापन , तराजू का पसंगा , रंजकदानी , नाव की पतवार , कड़ाही 
 
 कुत्ता  —  श्वान , लपटौवाँ , बिल्ली , बंदूक का घोड़ा , क्षुद्र।
 
 कुमार  —  पाँच वर्ष की अवस्था का बालक , पुत्र , युवराज , कार्तिकेय , खरा सोना , तोता , सिंधुनद , एक ग्रह जिसका उपद्रव बालकों पर होता है , कुँवारा।
 
 कुल  —  वंश , जाति , समूह , घर , वाममार्ग , व्यापारियों का संघ , सारा।
 
 कुशल  —  चतुर , श्रेष्ठ , उचित , मंगल।
 
 कूल  —  किनारा , सेना के पीछे का भाग , समीप , नहर , तालाब।
 
 कृष्ण  —  देवकी और वसुदेव का आठवाँ पुत्र , काला , नीला , दुष्ट ,वेदव्यास , अर्जुन ,  कौआ , , कलियुग , चंद्रमा का धब्बा , 
 
 केश  —  सिर के बाल , रश्मि , वरुण , विश्व , विष्णु , सूर्य , अयाल।
 
 कोठी  —  हवेली , बड़ी दुकान , अनाज रखने का कुठला , गर्भाशय।
 
 क्रिया  —  कर्म , प्रयत्न , गति , अनुष्ठान , नित्यकर्म , श्राद्ध आदि प्रेतकर्म।
 
 क्षमा  —  माफी , सहनशीलता , पृथ्वी , एक की संख्या , दक्ष की एक कन्या , दुर्गा ,
 
 क्षार  —  खार , नमक , सज्जी , शोरा , सुहागा , भस्म।
 
 क्षेत्र  —  खेत , समतल भूमि , घर , उत्पत्ति स्थान , तीर्थ – स्थान , स्त्री , शरीर , अंतः करण , प्रभाव या क्रिया का दायरा।
 
 खग  —  पक्षी , गंधर्व , बाण , ग्रह , बादल , देवता , सूर्य , चंद्रमा , वायु।
 
 खत  —  घाव , पत्र , लिखावट , रेखा , हजामत।
 
 खर्जूर  —  खजूर , चाँदी , हरताल , बिच्छू।
 
 खान  —  भोजन , भोजन की सामग्री , खदान , खजाना , सरदार , पठानों की उपाधि।
 
 खाना  —  घर , केस , विभाग , सारिणी या चक्र का विभाग।
 
 गज  —  हाथी , एक राक्षस , राम की सेना का एक बंदर , आठ की संख्या , लंबाई मापने की एक माप , एक प्रकार का तीर।
 
 गति  —  चाल , हरकत , अवस्था , रूपरंग , पहुँच , प्रयत्न की सीमा , शरण , चेष्टा , माया , ढंग , मोक्ष , पैंतरा।
 
 गुण  —  धर्म , प्रकृति के तीन भाव – सत्व , रज और तम , निपुणता , कोई कला या विद्या , असर , अच्छा स्वभाव , खासियत , तीन की संख्या , रस्सी या तागा , धनुष की डोरी।
 
 गुरु  —  भारी , कठिनता से पकने या पचनेवाला (खाद्य) , शक्तिशाली , आचार्य , किसी मंत्र का उपदेष्टा , उस्ताद , पूज्य पुरुष , देवताओं के आचार्य बृहस्पति , पुष्य नक्षत्र , ब्रह्मा , विष्णु , शिव।
 
 गृहस्थी  —  गृहस्थाश्रम , घरबार , कुटुंब , घर का सामान।
 
 गो  —  गाय , किरण , वृष राशि , इंद्रिय , वाणी , सरस्वती , आँख , बिजली , पृथ्वी , दिशा , माता , बकरी , भैंस , भेड़ इत्यादि दूध देनेवाले पशु , जीभ , बैल , घोड़ा , सूर्य , चंद्रमा , बाण , आकाश , स्वर्ग , जल , वज्र , शब्द , नौ का अंक।
 
 गोप  —  गौ की रक्षा करनेवाला , ग्वाला , गोशाला का अध्यक्ष , भूपति , गाँव का मुखिया , गले में पहनने का एक आभूषण।
 
 गौरी  —  गोरे रंग की स्त्री , पार्वती , आठ वर्ष की कन्या , हलदी , तुलसी , गोरोचन , सफेद रंग की गाय , सफेद दूब , गंगा नदी , पृथ्वी।
 
 ग्रह  —  सौरमंडल के नौ प्रधान तारे , नौ की संख्या , चंद्रमा या सूर्य का ग्रहण , ग्रहण करना , कृपा , राहु , स्कंद , शकुनी आदि छोटे बच्चों के रोग।
 
 ग्राम  —  छोटी बस्ती , आबादी , समूह , शिव , क्रम से सात स्वरों का समूह।
 
 घर  —  आवास , जन्मस्थान , घराना , कार्यालय , कोठरी , कोठा , कोश , पटरी आदि से घिरा हुआ स्थान , छोटा गड्ढा , छेद , मूल कारण , गृहस्थी।
 
 चंदा  —  चंद्रमा , पीतल आदि की गोल चद्दर , उगाही , किसी संस्था की सदस्यता के लिए समय-समय पर दिया जानेवाला धन , किसी सामयिक पत्र या पुस्तक आदि का वार्षिक मूल्य।
 
 चरण  —  पैर , बड़ों का सान्निध्य , किसी चीज का चौथाई भाग , मूल , गोत्र , क्रम , आचार , घूमने की जगह , सूर्य आदि की किरण , अनुष्ठान , गमन , भक्षण।
 
 चार  —  तीन से एक अधिक , कई एक , थोड़ा-बहुत , गति , बंधन , गुप्त दूत , दास , चिरौंजी का पेड़ , आचार।
 
 चाल  —  चलने का ढंग , आचरण , आकार – प्रकार , रीति , गमन – मुहूर्त , तदबीर , कपट , ढंग , हलचल , आहट।
 
 चित्र  —  तिलक , तसवीर , अलंकार , एक वर्णवृत्त , आकाश , चित्रगुप्त , चीते का पेड़ , विचित्र , चितकबरा , रंगबिरंगा।
 
 जगह  —  स्थान , मौका , ओहदा , गुंजाइश।
 
 जड़  —  अचेतन , मूर्ख , अकड़ा हुआ , शीतल , गूँगा , बहरा , मूल , नींव , सबब , आधार।
 
 जनक  —  उत्पादक , पिता , मिथिला के प्राचीन राजवंश की उपाधि , सीता के पिता।
 
 जबान  —  जीभ , बात , प्रतिज्ञा , भाषा।
 
 जमीन  —  भूमि , पृथ्वी (ग्रह) , मिट्टी , कपड़े आदि की वह सतह जिसपर बेल बूटे आदि बने हों , चित्र लिखने के लिए मसाले से तैयार की हुई सतह , भूमिका।
 
 जान  —  ज्ञान , ख्याल , चतुर , प्राण बल , सार , शोभा बढ़ानेवाली वस्तु।
 
 जी  —  मन , प्राण , हिम्मत , संकल्प , किसी के नाम के अंत में लगाया जानेवाला सम्मानसूचक शब्द । 
 
 ज्योति  —  प्रकाश , लपट , अग्नि , सूर्य , नक्षत्र , आँख की पुतली के मध्य का बिन्दु , दृष्टि , विष्णु , परमात्मा।
 
 टीका  —  तिलक , दोनों भौंहों के बीच माथे का मध्य भाग , श्रेष्ठ पुरुष , राजतिलक , युवराज , आधिपत्य का चिह्न , धब्बा , व्याख्या।
 
 ठंडा  —  शीतल , बुझा हुआ , शांत , उदासीन , विरोध न करनेवाला , प्रसन्न , निश्चेष्ट , मरा हुआ।
 
 ठाकुर  —  देवता , पूज्य व्यक्ति , किसी प्रदेश का अधिपति , जमींदार , क्षत्रियों की उपाधि , स्वामी , नाइयों की उपाधि , बंगाली ब्राह्मणों की उपाधि।
 
 डोरा  —  मोटा सूत या धागा , लकीर , तलवार की धार , तपे घी की धार , एक प्रकार की करछी , स्नेहसूत्र , काजल या सुरमे की रेखा , नृत्य में कंठ की गति।
 
 तट  —  किनारा , क्षेत्र , प्रदेश , समीप , शिव।
 
 तप  —  तपस्या , साधना , नियम , अग्नि , ताप , ग्रीष्म ऋतु , बुखार।
 
 तारा  —  सितारा , आँख की पुतली , भाग्य , दस महाविद्याओं में से एक , बालि की स्त्री।
 
 तीर  —  नदी का किनारा , पास , बाण।
 
 तूफान  —  लँगड़ी आँधी , डुबानेवाली बाढ़ , आपत्ति , हल्लागुल्ला , दंगा – फसाद , झूठा दोषारोपण।
 
 त्रिशूल  —  एक अस्त्र जिसके सिरे पर तीन फल होते हैं (विशेषतः महादेवजी का अस्त्र) , दैहिक , दैविक और भौतिक दुख।
 
 दाम  —  रस्सी , माला , समूह , लोक , जाल , पैसे का चौबीसवाँ या पचीसवाँ भाग , मूल्य , धन , सिक्का , दान – नीति।
 
 दिमाग  —  विचार , कामना , भावना , चेतना , स्मरण आदि शक्तियों का अवयव , मस्तिष्क , मानसिक शक्ति , अभिमान।
 
 दिल  —  कलेजा , भावों का अवयव (विशेषतः प्रेम का) , साहस , प्रवृत्ति।
 
 दुर्गा  —  दुर्ग नामक दैत्य को मारनेवाली देवी , आदिशक्ति , हिमवान् और मेनका की कन्या , नील का पौधा , अपराजिता , श्यामापक्षी , एक संकर रागिनी।
 
 देव  —  देवता , पूज्य व्यक्ति , ब्राह्मणों , राजाओं तथा बड़ों के लिए एक आदरसूचक शब्द।
 
 द्रव  —  द्रवण , बहाव , पलायन , वग , आसव , रस , द्रवत्व , तरल , गीला , पिघला हुआ।
 
 द्रव्य  —  वस्तु , मूल पदार्थ जिसमें केवल गुण और क्रिया अथवा केवल गुण हो और जो समवायि कारण हो , सामग्री , धन।
 
धड़  —  शरीर का स्थूल मध्यभाग , तना , किसी वस्तु के एकबारगी गिरने से उत्पन्न शब्द।
 
 धन  —  संपत्ति , गोधन , स्नेहपात्र , गणित में जोड़ी जानेवाली संख्या या जोड़ का चिह्न , पूँजी।
 
 धूप  —  सुगंधित धूम , कई द्रव्यों के योग से बनायी गयी कृत्रिम धूप , सूर्य का प्रकाश और ताप।
 
 नंदन  —  इंद्र के उपवन का नाम , बेटा , एक प्रकार का विष , महादेव , विष्णु , एक प्रकार का अस्त्र , मेघ , आनन्ददायक।
 
 नरम  —  मुलायम , लचीला , मंदा , धीमा , सुस्त , लघुपाक , जिसमें पौरुष का अभाव हो।
 
 नर्तक  —  नट , नरकट , चारण , एक जाति , महादेव।
 
 नाक  —  नासिका , प्रतिष्ठा या शोभा की वस्तु , इज्जत , मगर की जाति का प्रसिद्ध जलजंतु , स्वर्ग , अंतरिक्ष , अस्त्र का एक आघात।
 
 नाग  —  सर्प , कद्रु से उत्पन्न कश्यप ऋषि की संतान , हिमालय के उस पार एक देश का नाम , एक पर्वत (महाभारत) , हाथी , राँगा , सीसा (धातु) , नागकेसर , पुन्नाग , पान , नागवायु , बादल , आठ की संख्या , दुष्ट या क्रूर मनुष्य , नागा।
 
 नाना  —  बहुत तरह के , अनेक , मातामह , पुदीना।
 
 निशान  —  चिह्न , किसी पदार्थ से अंकित किया हुआ चिह्न , शरीर अथवा और किसी पदार्थ पर बना हुआ स्वाभाविक या कृत्रिम चिह्न , दाग या धब्बा , अनपढ़ आदमी द्वारा अपने (हाथ के अंगूठे से) हस्ताक्षर के बदले कागज आदि पर बनाया गया चिह्न , प्राचीन या पहले की घटना अथवा पदार्थ का परिचय मिलने का लक्षण , पता , ध्वजा।
 
 नेता  —  नायक , स्वामी , निर्वाहक , मथानी की रस्सी।
 
 पंक्ति  —  श्रेणी , रेखा , सतर , कुलीन ब्राह्मणों की श्रेणी , भोज में एक साथ बैठकर खानेवालों की श्रेणी , चालीस अक्षरों का एक वैदिक छंद , एक वर्णवृत्त।
 
 पति  —  दूलहा , मालिक , मर्यादा , शिव या ईश्वर।
 
 पत्र  —  किसी वृक्ष का पत्ता , दस्तावेज , समाचारपत्र , पृष्ठ , किसी विशेष कार्य के प्रमाणस्वरूप कुछ लिखा गया कागज या ताम्रपत्र , पट्टा , धातु की चद्दर , तीर या पक्षी के पंख।
 फकीर  —  भिक्षुक , साधु , निर्धन मनुष्य।
 
 फण  —  साँप का फन , रस्सी का फंदा , नाव का अगला ऊपरी भाग।
 
 फल  —  खानेवाला फल , बीजकोश , लाभ , नतीजा , कर्मभोग , गुण , शुभ कर्मों के परिणाम , प्रतिफल , आघात किया जानेवाला बाण , फलक , ढाल , क्षेत्रफल , जायफल।
 
फसल  —  ऋतु , समय , खेत की उपज।
 
 फूल  —  पुष्प , फूल के आकार के बेलबूटे या नक्काशी , फूल के आकार का कोई गहना , पीतल आदि की गोल गाँठ या घुंडी , सफेद दाग , स्त्रियों का मासिक रज , ताँबे और राँगे के मेल से बननेवाली एक मिश्र धातु , फूलने की क्रिया या भाव , उत्साह , आनन्द।
 
 बच्ची  —  छोटी लड़की , पाजेब आदि का घुँघरू , होंठ के नीचे बीच में जमा हुआ बाल , छत या छाजन में बड़ी घोड़िया के नीचे लगायी जानेवाली छोटी घोड़िया।
 
 बाण  —  तीर , गाय का थन , आग , लक्ष्य , पाँच की संख्या , शर का अगला भाग।
 
 बाबा  —  पिता , पितामह , साधु – संन्यासियों के लिए आदरसूचक शब्द , बूढ़ा पुरुष , लड़कों के लिए प्यार का शब्द।
 
 बिच्छू  —  प्रसिद्ध छोटा जहरीला जानवर , एक प्रकार की जहरीली घास।
 
 बुखार  —  ज्वर , वाष्प , शोक , क्रोध , दुख आदि का आवेग।
 
 बृहस्पति  —  प्रसिद्ध वैदिक देवता अंगिरस के पुत्र और देवताओं के गुरु , सौर जगत् का पाँचवाँ ग्रह।
 
 ब्राह्मण  —  चार वर्णों में सबसे श्रेष्ठ वर्ण या जाति , मंत्र , आरण्यक और उपनिषद् के अतिरिक्त वेदों का शेष अंश , विष्णु , शिव।
 
 भक्त  —  बाँटकर दिया हुआ , अनुयायी , सेवा करनेवाला।
 
 भगवान्  —  ऐश्वर्ययुक्त , पूज्य , ईश्वर , विष्णु , कोई पूज्य और आदरणीय व्यक्ति।
 
 भूत  —  द्रव्य , सृष्टि का कोई जड़ या चेतन , अचर या चर पदार्थ या प्राणी , जीव , सत्य , बीता हुआ समय , क्रिया का वह रूप जो क्रिया का व्यापार समाप्त होने की सूचना देता है , मृत शरीर , मृत प्राणी की आत्मा , प्रेत , बीता हुआ , मिला हुआ , समान , जो हो चुका हो।
 
 भूमि  —  पृथ्वी , जड़ , देश , क्रम-क्रम से योगी को प्राप्त होनेवाली अवस्थाएँ , क्षेत्र।
 
 मधु  —  शहद , मदिरा , फूल का रस , वसंत ऋतु , चैत्रमास , पानी , एक दैत्य , दो लघु अक्षरों का एक छंद , शिव , मुलेठी , अमृत , मीठा , स्वादिष्ट।
 
 महावीर  —  हनुमान्जी , गौतमबुद्ध , जैनियों के चौबीसवें और अंतिम तीर्थंकर , बहुत बड़ा बहादुर या वीर।
 
 मा  —  लक्ष्मी , दुर्गा या काली , माता , दीप्ति।
 
 माता  —  जननी , कोई पूज्य या आदरणीय स्त्री , गौ , भूमि , लक्ष्मी , शीतला , मतवाला।
 
 मामा  —  माता का भाई , माता , रोटी पकानेवाली स्त्री , नौकरानी।
 
 मुँह  —  मुख-विवर , मनुष्य का मुख-विवर , चेहरा , किसी पदार्थ के ऊपरी भाग का विवर , सूराख , मुलाहजा , योग्यता , साहस।
 
 रक्त  —  लहू , कुंकुम , ताँबा , कमल , सिंदूर , शिंगरफ , लाल चंदन , रँगा हुआ , लाल।
 
 रथ  — , शरीर , चरण , शतरंज में ऊँट।
 
 रवि  —  सूर्य , मदार का पेड़ , अग्नि , नायक।
 
 राम  —  परशुराम , बलराम , सूर्यवंशी महाराज दशरथ के पुत्र , तीन की संख्या , ईश्वर , एक प्रकार का मात्रिक छंद।
 
 रेखा  —  लकीर , किसी वस्तु का सूचक चिह्न , गणना , आकृति , हथेली , तलवे आदि में पड़ी हुई लकीर।
 
 लेख  —  लिपि , लिखावट , किसी विषय पर गद्य में लिखी हुई पूरी बात , लेखा , देव , पक्की बात।
 
 वंश  —  खानदान , बाँस , पीठ की हड्डी , नाक के ऊपर की हड्डी , बाँसुरी , बाहु आदि की लंबी हड्डियाँ।
 
 वर्ण  —  रंग , जनसमुदाय के चार विभाग , अक्षर , रूप।
 
 शनि  —  सौर जगत् का सातवाँ ग्रह , दुर्भाग्य।
 
 शिव  —  महादेव , परमेश्वर , देव , रुद्र , लिंग , मंगल , मोक्ष , वेद , जल , पारा।
 
 शुक्र  —  शुक्रतारा , वीर्य , बल , सप्ताह का छठा दिन , अग्नि , धन्यवाद।
 
 शून्य  —  खाली स्थान , एकांत-स्थान , बिंदु , अभाव , स्वर्ग , विष्णु , ईश्वर , निराकार , विहीन।
 
 श्री  —  लक्ष्मी , सरस्वती , कमल , सफेद चंदन , त्रिवर्ग , संपत्ति , विभूति , कीर्ति , प्रभा , कांति , एक प्रकार का पदचिह्न , स्त्रियों का बेंदी नामक आभूषण , नाम के आदि में रखा जानेवाला आदरसूचक शब्द , वैष्णवों का एक संप्रदाय , एक अक्षर का छंद या वृत्त , संपूर्ण जाति का एक राग।
 
 संज्ञा  —  चेतना , बुद्धि , ज्ञान , नाम , व्याकरण में वह विकारी शब्द जिससे किसी पदार्थ या कल्पित वस्तु का बोध होता है , सूर्य की पत्नी , संकेत।
 
 सरल  —  सीधा , निष्कपट , चीड़ का पेड़ , गंधाबिरोजा।
 
 साँवला  —  श्याम वर्ण का , श्रीकृष्ण , पति या प्रेमी आदि का बोधक एक नाम (गीतों में)।
 
 साधु  —  कुलीन , धार्मिक पुरुष , सज्जन , उत्तम , सच्चा , प्रशंसनीय , उचित।
 
 सुग्रीव  —  जिसकी गर्दन सुंदर हो , बालि का भाई , इंद्र , शंख।
 
 सेना  —  फौज , भाला , इंद्र का वज्र , इंद्राणी।
 
 सोना  —  स्वर्ण , बहुत सुंदर वस्तु , राजहंस , मझोले कद का एक वृक्ष , एक प्रकार की मछली।
 
 हाथ  —  कर , लंबाई की एक नाप , दाँव।
 
 हिम  —  बर्फ , जाड़ा , चंद्रमा , चंदन , कपूर , मोती , कमल , ठंडा।
 
error: Content is protected !!